Economics VVI Objective Questions Part-06

Q.1. उत्पादक के संतुलन से क्या अभिप्राय है ?

उत्तर:- उत्पादक के संतुलन से आशय उत्पादक द्वारा अपने उत्पादन को अधिकतम करने से है। इस स्तर के बाद उत्पादन में उत्पादन बढ़ाने की प्रवृत्ति नहीं होती है ऐसी स्थिति में उत्पादक अधिकतम लाभ की स्थिति होता है

Q.2. पूर्ति की कीमत लोच का क्या अभिप्राय है ?

उत्तर :- पूर्ति की कीमत लोच वस्तु की कीमत में होने वाले परिवर्तन

के परिणाम स्वरूप उसकी पूर्ति में होने वाले परिवर्तन से है। Q.3. अल्पाधिकरी बाजार में फर्म

परसपर निर्भर क्यों होती है ?

उत्तर:- इसमें समूह में केवल कुछ फर्म में होती है जो दिए गए उत्पादन क्षेत्र में या तो समरूप वस्तुएं बनाती है या फिर उसकी वस्तुओं में उत्पादन विभेदीकरण पाया जाता है। इस बाजराव में कीमत एवं उत्पादन निर्धारण की नीतियों में विक्रेताओं के बीच पारस्परिक निर्भरता होती है। अगर कोई फार्म कीमत अधिक करके वस्तु को बेचना चाहें तो क्रेता दूसरे फर्मों के विक्रेता के पास चले

जाते हैं क्योंकि यह समरूप वस्तुओं का उत्पादन करते हैं।

Q.4. एकाधिकार आत्मक की वेश में बाधाएं विशेषता को महत्व समझाइए।

उत्तर:- कोई भी फार्म समूह में प्रवेश कर के निकट स्थानापन्न का उत्पादन कर सकती है। फर्मों की अति प्रबंधित प्रवेश विभेदी कृत उत्पादन में वृद्धि करता है।

Q.5. आर्थिक प्रणाली कितने प्रकार की होती है?

उत्तर :- आर्थिक प्रणाली को तीन भागों में बांटा जा सकता है।

(1) पूंजीवाद

(2) समाजवाद

(3) मिश्रित अर्थव्यवस्था

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page

error: Content is protected !!